Share On

भारत को 333 रन से हराकर ऑस्ट्रेलिया ने 15 साल बाद लिया बदला

  • 25/02/2017

पुणे टेस्ट में भारत को 333 रन से हराकर 15 साल बाद ऑस्ट्रेलिया ने भारत से आखिरकार बदला ले ही लिया। 2001 में स्टीव वॉ की कप्तानी में भारत आई ऑस्ट्रेलियाई टीम का विजय रथ भारत ने रोका था।

अब स्टीव स्मिथ कप्तानी में कंगारुओं ने भारत के विजय रथ को रोक दिया है। इस जीत के साथ ऑस्ट्रेलिया ने चार मैचों की सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली है। ऑस्ट्रेलिया के लिए ओकीफ ने मैच 70 देकर 12 विकेट हासिल किए। ओकीफ ने दोनों पारियों में छह-छह विकेट चटका कर टीम इंडिया मजबूत बैटिंग को ध्वस्त कर दिया। 441 रन का मुश्किल लक्ष्य का पीछा करते हुए भारतीय टीम महज 107 रन पर सिमट गयी। ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 260 रन का स्कोर बनाया था। ऑस्ट्रलिया के लिए पहली पारी में रेनशॉ और स्टार्क ने अर्धशतकीय पारियां खेली थीं। जबकि भारत के लिए उमेश यादव ने चार और आर अश्विन ने तीन विकेट लिए। भारत ने अपनी पहली पारी में 105 रन बनाए थे। भारत के लिए सिर्फ लोकेश राहुल ही हाफ सेंचुरी बना पाए थे। पहली पारी में भारत ने अपने आखिरी सात विकेट महज 11 रन के भीतर खो दिए थे। पहली पारी में ऑस्ट्रेलिया को 155 रन की बढ़त मिली। अपनी दूसरी पारी में ऑस्ट्रेलिया ने कप्तान स्टीवन स्मिथ के शानदार शतक की बदौलत 285 रन का स्कोर बनाया। भारत को चौथी पारी में 441 रन का लक्ष्य मिला। भारतीय बल्लेबाजी का फ्लॉप शो दूसरी पारी में भी जारी रहा। 441 के जवाब में भारत की टीम 107 रन पर आउट हो गई। भारत के लिए सबसे ज्यादा रन चेतेश्वर पुजारा ने बनाए। वो 31 रन बनाकर आउट हुए। ऑस्ट्रेलिया के लिए दूसरी पारी में भी ओकीफ ने छह विकेट लिए और ऑस्ट्रेलिया की जीत का रास्ता बनाया। ओकीफ को अपने शानदार प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ द मैच का खिताब दिया गया है। तीसरे दिन तीसरे सत्र के शुरुआत में ही मैच का नतीजा आ गया।